-moz-user-select:none; -webkit-user-select:none; -khtml-user-select:none; -ms-user-select:none; user-select:none;

6/21/2012

Bura na main hu,na bure tum

                 
                                                     "बुरे  न मैं हू ,न बुरे  तुम "


                                                        बुरा   न मैं हू ,न बुरे   तुम
                                                        फिर क्यों है ये नफरत ,
                                                        फिर क्यों हैं बनावटी इंसान ,
                                                        फिर क्यों नहीं सब में मोहब्बत ,
                                                        फिर क्यों नहीं हैं सब साथ ...



                                                        बुरा   न मैं हू ,न बुरे   तुम
                                                        फिर क्यों ये धोखा ,
                                                        फिर क्यों  हैं ये पाप ,
                                                        फिर क्यों नहीं हैं बचपन ,
                                                        फिर कहा  गया वो ईमान...

                                                        बुरा   न मैं हू ,न बुरे   तुम
                                                        फिर क्यों हैं ये लोभ ,
                                                        फिर क्यों हैं ये काम ,
                                                        फिर क्यों नहीं हैं हम संतुष्ट,
                                                        कहा गया वो भीतर का राम ...

                                                        बुरा   न मैं हू ,न बुरे   तुम
                                                        फिर क्यों हैं गरीबी,दर्द 
                                                        और बेसहारा ,
                                                        फिर क्यों नहीं चारो तरफ
                                                        सिर्फ अच्छाई का बोल बाला ...

                                                        शायद हमने ही नकाब पहना
                                                        और खुद को संत कह डाला ,
                                                        हां बुरा   हू मैं ,थोड़े बुरे   तुम
                                                        और शायद थोडा बुरे   हैं
                                                        वो श्रृष्टि रचने वाला

                                                      - अनिमेष शाह 



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...